Related Articles

6 Comments

  1. K s rawat

    गंध
    बकरी से- बकरैन
    कुत्ते से – कुकरैन
    मछली से – मछैन
    कपड़ा या बाल जलने पर – किड़ैन
    बाघ से – बगैन
    मखन से घी बनाते समय भी -भुटैन
    चरसियों से – भंगैन या अतरैन
    नैर पाती से -धूपैण ( जिस पात्र में जलाया जाता है उसके लिए भी प्रयुक्त होता है)
    गोबर से -घुभरैन
    जो सबसे अजीब असहनीय -गुवैन

    ऐन जुड़ गया है सभी शब्दों में

  2. Ravi Chandra Joshi

    तिमूर के बारे में भी जानकारी देने की कोशिश करें ।
    पहाड़ में गधेरों की मुँडेरों पर लंबी सींकों से युक्त काँटेदार झाड़ी जिसके दातुन करने का अनुभव मेरे लिए व्यक्त करना मुश्किल है ।

  3. Praveen Kumar Soni

    I love uttrakhand I love kumauni language

  4. bipin

    chatpatey khaney ki gandh ko लटपटैन

  5. Tarun

    This article need more research.The origin of different smell is different language.For example churan drives for tibeten language.

  6. G C Brijwasi

    I am unable to understand the procedure for selection of matter for ur blog. One condition i m aware that it should be related to Uttrakhand. Rest i dont know. If possible let me know pl.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2019 Kafal Tree. All rights reserved. | Developed by Kafal Tree Team