Related Articles

7 Comments

  1. जय प्रकाश

    क्यो होती औलाद निष्ठुर ! बड़ा सटीक चित्रांकन !

  2. Manoj Dangwal

    Very nicely written, the hope of a mother and the selfish son. Thanks Rajeev Ji..

  3. Neelima Sharma Nivia

    बेहतरीन कहानी

  4. harry

    धिक्कार हो रे krishna तें कु।।।।

  5. वीरेन्द्र विष्ट

    भावुक कर देने वाला चित्रण। क्या कहूँ। समय के साथ हम् कितने निष्ठुर हो गए हैं।

  6. Sandeep bisht

    वर्तमान की वास्तविकता बताती कहानी। अदभुत

  7. M C Kanseri

    लकड़ी की आग जलते-२ पीछे ही आती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2019 Kafal Tree. All rights reserved. | Developed by Kafal Tree Team