Related Articles

3 Comments

  1. Kailash Ruwali

    Great sir old memory is always great full very hard of kumaoni Life i remember always

  2. uthukral@colmex.mx

    क्या सजीव चित्रण किया है आपने भाई! 75 साल की उम्र में अपने बचपन की ऐसी ख़ुद लग रही है कि फिर से प्राइमरी स्कूल में पढ़ने वाला बच्चा बन जाना चाहता हूं । आइएसा ही वातावरण तो हुआ करता था तब हमारे स्कूलों में। वो बहते सिंगाड़े को कमीज़ की आस्तीन से पोंछने की बात मन को छू गयी । ऐसा ही तो किया करते थे हम भी ।

    — शशिधर डिमरी

  3. Kailash singh garia

    आपकी यादें बता रही हैं कि आपने वही दौर जिया है,,जिसकी चर्चा आज आये दिन मेरे बौज्यू भी करते हैं,,ये बात और है कि आज उनके लड़कों के पास उनकी फसक सुनने का समय नही है,हाँ ब्वारियाँ जरूर उनकी फ़सकों को चटकारे ले ले कर सुनती हैं।
    आपकी वो लाइन दिल को छू गई जिसमें आपने बताया है कि जाड़ों में सड़क किनारे या पगडंडियों में पड़े हुए पाले से स्कूल जाते बच्चों के तलवे कट जाया करते थे,,सच में सर जी आप लोगों ने काफी अभावों में जीवन को जिया है शायद इसी कारण इतने बड़े पोस्ट को आपने शोभायमान किया,,,
    एक बात और कहूँ, क्योंकि कहने का बड़ा दिल कर रहा है,,कि आप अधिकारी भी बहुत ग्रेट रहे होंगे,,आपकी बातों से भरी इस संस्मरण में आपकी ग्रेटनेस्स के दर्शन सहज भाव से हो रहे हैं,,,
    आपको दिल से सलाम है सर जी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2019©Kafal Tree. All rights reserved.
Developed by Kafal Tree Foundation