Related Articles

6 Comments

  1. अजय शास्त्री

    बेहद प्रभावी लेखन

  2. Anonymous

    शानदार

  3. Anonymous

    जबरदस्त।।

  4. Anonymous

    रोचक लेख

  5. Anonymous

    प्रिय अभिषेक पुरोधा हैं हास्य एवं व्यंग्य के । विशेषकर सामायिक विषयों पर । मुझे उनके फेसबुक मित्र होने का सौभाग्य प्राप्त है ।

  6. parulvineet@gmail.com

    खुर वाले शेर (जोकि रेंकता है) ने बोलना जारी रखा, और पंजे वाला गधा (जोकि दहाड़ता है) सुनता रहा 😊
    गधा जोकि शेर है उसने आखिर तक सुना भी बहुत, पिटा भी बहुत और शेर जोकि गधा है उसने सुनाया भी बहुत और पीटा भी बहुत … 😀😀
    धारदार व्यंग्य में हास्य का शानदार तड़का।
    यह व्यंग्यात्मक लेख हमेशा प्रासंगिक रहेगा।
    शुभकामनाएँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2019©Kafal Tree. All rights reserved.
Developed by Kafal Tree Foundation