Related Articles

2 Comments

  1. जय प्रकाश

    कौन इन घस्यारियों के आँसू पोछेगा?

  2. गोविन्द गोपाल

    ये बहुत दुखद है . जिस राज्य में भू माफिया पार्टियों का झंडा लगा कर वन पंचायतों की भूमि को बेच रहे हो , खनन कररहे हों , खुले आम दुर्लभ प्रजाति के दशकों पुराने पेड़ों को सुखा कर बेच रहे हों, दुर्लभ प्रजाति के वन्य जीवों के घर का नाश कर सरकारी सार्वजानिक वन भूमि की प्लोटिंग कर बेच रहे जिससे वन्य जीवन का नाश हो रहा है , वहाँ सिर्फ घास काटने को लेकर पर्वतीय महिलाओं को रुलाना उसकी प्रार्थना को उनसुना करना किसी भी ढंग से उचित नहीं ठहराया जा सकता . जब वो काटने गयी घास तो क्यों नही रोका गया ? जिस प्रदेश में वन भूमि को ऊँची सांठ – गाँठ के जरिये बेचा जा रहा हो वहा ऐसा व्यवहार उचित प्रतीत नहीं होता . इस स्तिथि को भिन्न ढंग से बिना उस असहाय महिला के आंसू बहाए सम्भाला जा सकता था . विडियो मन की व्यथित कर देने वाला है . इसी सन्दर्भ की खबर में ये बात भी सामने आयी है अन्य प्रकाशनों से कि किसी वन सरपंच की मंजूरी थी मैदान बनाने की . वन पंचायत नियमावली 2005 के अनुसार सरपंच को वन भूमि को मैदान बनाने के लिए मंजूरी देने का अधिकार नहीं है . तो मैदान बन कैसे रहा था ? इस घटना में पुलिस का कोई दोष नही है . वे केवल आदेशॉ का पालन कर रहे हैं , अतः आदेश इस ढंग से इस स्तिथि को संभालने के जहां से भी आये उनको चिंतन करना है . इस घटना में पश्चाताप की धारा में स्नान ही करना एक विकल्प है . विडियो बहुत ही व्यथित कर देने वाला है . घास गाय के लिए थी और वो महिला कह भी रही है . दुबारा इतनी घास काटने में उसे रात हो जायेगी ,और अगर ये घास जब्त भी हो गयी होगी तो सूख ही जायेगी पर गाय के भूखे रहने का पाप हम गौ – पूजकों के लिए असहनीय है . विडियो में दोनों महिलाएं रो रही हैं . यहाँ ये बात ध्यान देने की है इसी घास को काटने के चक्कर में पहाड़ आये दिन कई महिलाएं गिर कर दर्दनाक मृत्यु पाती हैं . ये बात सत्य है कि घास का कटान एक निश्चित ढंग से होना अनिवार्य है ताकि नयी वनस्पतियाँ उग सके . पर जब वन भूमि ही प्लोटिंग कर बेच दी जा रही हो तो ऐसे में इन घास काटने की वाली महिलाओं को रुलाना इतना अनुचित है की अब पुष्करदा को हस्तक्षेप करना ही चाहिए, वे दयालू हैं और इन महिलाओं के आंसू दूर तलक आँखों और मन में गीलापन कर रहे हैं . आंसू पोछने की आवश्यकता है ऐसे में जब रायता फ़ैल ही गया हो , जय उत्तरखंड ,जय भारत , -गोविन्द गोपाल , दनिया , अल्मोड़ा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

2019©Kafal Tree. All rights reserved.
Developed by Kafal Tree Foundation