Related Articles

4 Comments

  1. Prema chauhan

    Wow …. described beautiful ❤️ ??

  2. विकास नैनवाल

    हमारे यहाँ इस भट्ट की भटौणी बोलते हैं शायद। लेख में भट्ट और लकड़ियों के विषय में जो विचार दिये हैं उनसे पूरी तरह मैं सहमत हूँ। लड़कियों को स्वालम्बी तो होना ही चाहिए तभी वह न केवल खुद के लिए खड़ी होंगी बल्कि दूसरों के लिए भी खड़ी हो सकेंगी। सुन्दर लेख। आभार।

  3. Suresh Tiwari

    Enjoyed the article thoroughly. Glad to see Uttarakhandies not shying away from sharing such practices. Hope more and more take initiatives to share such stories and practices

  4. Prakash

    पहाड़ियत की खुशबू वाला लेख।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2019©Kafal Tree. All rights reserved.
Developed by Kafal Tree Foundation