Related Articles

2 Comments

  1. सुशील

    बढ़िया। अगली किस्त के इन्तजार में।

  2. नरेंद्र पंत

    हा हा हा , सहानुभूति सर रूम मेट के प्रकरण के लिए । शायद इतिहास खुद को दोहराता है , कुछ महीने पहले हमारे बैच में भी ऐसा ही हुआ ??

Leave a Reply

Your email address will not be published.

2019©Kafal Tree. All rights reserved.
Developed by Kafal Tree Foundation