Related Articles

3 Comments

  1. Kamal lakhera

    कहानी !! नहीं ये तो कथा है ।

  2. Kamal lakhera

    शीर्षक से इतर, लेखिका ने कहानी को रसभरी कथा में पिरो दिया है, जिसके लिए वे भूरि भूरि प्रशंसा की हकदार हैं ।

  3. pradeepshahi69@rediffmail.com

    अति उत्तम वर्णन। ५वी की बोर्ड में हमने भी लगभग ऐसे ही परीक्षा दी थी। अहा वो दिन याद आ गए।लेखनी ने उम्दा प्रस्तुति दी है जिसकी लेखनी व लेखिका दोनों प्रशंशा की पात्र हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

2019©Kafal Tree. All rights reserved.
Developed by Kafal Tree Foundation